us हिज्बुल मुजाहिदीन अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी संगठन

share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

वॉशिंगटन 16 aug
अमेरिका ने बुधवार को कश्मीर में आतंकवाद फैलाने वाले पाकिस्तान के आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन पर प्रतिबंध लगाते हुए उसे अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी संगठन घोषित कर दिया है। आतंकवाद के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय मंचों पर पाकिस्तान को बेनकाब करने की भारत की कोशिशों के लिए इसे बड़ी कामयाबी समझा जा रहा है। कश्मीर में आतंकवाद को बढ़ावा देने में जुटे पाकिस्तान के लिए अमेरिका का यह फैसला किसी बड़े झटके से कम नहीं।

अमेरिका के राजकोष विभाग की वेबसाइट पर जारी बयान में कहा गया है कि उसने पाकिस्तान स्थित इस आतंकवादी संगठन को बैन कर दिया है। प्रतिबंध का सीधा मतलब यह है कि अमेरिका में मौजूद आतंकी संगठन की किसी भी संपत्ति को जब्त किया जाएगा और अमेरिकियों से कहा जाएगा कि वे इस आतंकी संगठन से किसी भी तरह का लेनदेन न करें।

जून में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के बीच मुलाकात से ठीक पहले अमेरिकी विदेश विभाग ने हिज्बुल मुजाहिदीन के मुखिया सैयद सलाहुद्दीन का नाम अंतरराष्ट्रीय आतंकवादियों की लिस्ट में शामिल कर लिया था। इस कार्रवाई के बाद अब कोई भी अमेरिकी नागरिक सलाउद्दीन के साथ किसी भी तरह का वित्तीय लेन-देन नहीं कर सकता, साथ ही अमेरिका में उसकी कोई भी प्रॉपर्टी जब्त की जा सकेगी।

उधर सलाहुद्दीन ने अमेरिका द्वारा वैश्विक आतंकी घोषित करने के फैसले को ‘मूर्खतापूर्ण’ बताया था। हिज्बुल सरगना ने कहा था, ‘वे हमें आतंकी घोषित करने के लिए सबूत के तौर पर एक घटना का जिक्र भी नहीं कर सकते हैं। इस मूर्खतापूर्ण फैसले से हमारा विश्वास नहीं टूटने वाला है। हम कश्मीर के मसले पर जिहाद जारी रखेंगे।’ अमेरिका के इस कदम का पाकिस्तान ने भी विरोध किया था और हिज्बुल सरगना का बचाव किया था। पाकिस्तान ने हालांकि सलाहुद्दीन को किसी प्रकार से मदद करने से इनकार किया, लेकिन कहा था कि वह कश्मीर के लिए अपना कूटनीतिक और नैतिक समर्थन जारी रखेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *