स्वामी हिरदाराम जी : सेवा की राह पर चलने का संकल्प दोहराएगा हिरदाराम नगर

sant-hiryaram

भूखे को रोटी एक दिन,दो दिन, दस दिन कोई खिला सकता है, लेकिन उम्र भर की कोई गारंटी नहीं ले सकता। उसे रोटी कमाने का हुनर सिखाया जाए तो कई पीढ़ियां भीख मांगने से बच सकती हैं। - संत हिरदारामजी

किसी तीर्थ से काम नहीं संतजी की कुटिया

अजय तिवारी

21 सितंबर का दिन हर साल संतनगर में सेवा संकल्प दिवस के रूप में मनाया जाता है। सेवाधाम (कुटिया) को नमन कर समाजसेवी जरूरतमंदों की सेवा का संकल्प दोहराते हैं। संतनगर मानवसेवा की प्रेरणा देने वाले स्वामी संत हिरदारामजी की जयंती मनाएगा।.. संकल्प लेगा- बूढ़े, बच्चे, और बीमार हैं परमेश्वर के यार, करें भावना से इनकी सेवा, पाएंगे लोक-परलोक में सुख अपार.

बीसवीं सदी के महामानव के जीवन की कर्म स्थली है संत हिरदाराम नगर। सिंध से आकर पुष्कर और बैरागढ़ को अपनी मानव सेवा का कर्म क्षेत्र बनाया था संत स्वामी हिरदारामजी। संतजी ब्रह्मलीन हो गए, लेकिन उनके सेवा के मार्ग पर संतनगर न आज भी चल रहा है। संतनगर क्या दुनियाभर से सेवा की भावना  रखने वाले संतनगर के सेवा कार्यों में सहभागी बनने आते हैं। सेवा संकल्प धाम (कुटिया) में पीडि़त मानवता के आंसू पौंछने का संकल्प लेते हैं।

बैरागढ़ को संत हिरदारामजी के नाम की पहचान भी मिल गई है। उनकी प्रेरणा से चल रहे शिक्षा संस्थान, चिकित्सालय और संस्कार केन्द्रों का संचालन हो रहा है। यहां जरूरतमंदो का बिन पैसे इलाज होता है, बिना पैसे बच्चा पढ़ता है। नेत्र ज्योति की हिफाजत के लिए तो सेवासदन सदैव तत्पर रहता है। नवयुवक परिषद निर्धन बच्चों की शिक्षा की व्यवस्था। युवा को अपने पैरों पर खड़ा करने लायक स्वामी विवेकानंद कॅरियर अकादमी बना रही है।

नवयुवक परिषद

1978 में संतजी की प्रेरणा से कुछ सेवाधारियों ने एक-एक निर्धन बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते हुए, उसे गोद लिया था। इसे सामूहिक प्रयासों बदला नवयुवक परिषद ने। आज हजारों विद्यार्थी की अभिभावक बनी हुई है। परिषद से जुड़े सेवाभावी लोग न केवल बच्चों को शिक्षित करने की जिम्मेदारी निभाते हैं, बल्कि तडक़े चार बजे यह देखने टार्च लेकर निकलते हैं उनके गोद लिए बच्चे पढऩे उठे या नहीं। नि:शुल्क कोचिंग की व्यवस्था भी परिषद करती है। परिषद रोजगारोन्मुखी संस्थान भगवान कला केन्द्र का भी संचालन करती है, जो पढ़ाई के बाद बच्चों को अपने पैरों पर खड़े होने का हुनर सिखा रही है। स्वामी विवेकानंद कॅरियर अकादमी, नीतू मेमोरियल लाइब्रेरी में किताबों का भंडार परिषद की ही देन है।

शहीद हेमू कालानी सोसायटी

संतनगर के बच्चों को आधुनिक शिक्षा के लिए दूर न जाना पड़ा है, इसके चलते संत हिरदारामजी की प्रेरणा से उच्च स्तरीय शिक्षा के लिए शहीद हेमू कालानी एज्युकेशनल सोसायटी की स्थापना की गई। सात हजार से अधिक बच्चों को सीबीएसई की शिक्षा के लिए आधा दर्जन से अधिक बालक एवं कन्या विद्यालयों का संचालन यह सोसायटी कर रही है। संत हिरदाराम गल्र्स कॉलेज आधुनिक शिक्षा के साथ संस्कारवान शिक्षा का बेजोड़ महाविद्यालय है। बालिका शिक्षा को लेकर संतजी की चिंता इसकी स्थापना के मूल में है।

साधु वासवानी विद्यालय

शहरी निर्धन बच्चों को कम शुल्क पर पढ़ाने के लिए सुधार सभा की स्थापना 1972 में हुई थी। यह संस्था साधु वासवानी स्कूल का संचालन करती है। स्कूल के बच्चों ने माध्यमिक शिक्षा मंडल की परीक्षाओं की प्रावीण्य सूची में आने का रिकॉर्ड बनाया है। शिक्षा के साथ संस्था में विद्यार्थियों के समग्र विकास पर ध्यान दिया जाता है।

प्राकृतिक चिकित्सा केन्द्र

1989 में संत हिरदारामजी की प्रेरणा से प्राकृतिक चिकित्सा केन्द्र की स्थापना की गई थी। यहां उन सैकड़ों मरीजों का इलाज किया जा रहा है, जो रक्तचाप, मधुमेह, लकवा से पीडि़त हैं। केन्द्र में भर्ती कर उपचार की सुविधा भी है। आरोग्य केन्द्र में योग के साथ दिन की शुरुआत होती है। केन्द्र में प्राकृतिक चिकित्सा विंग, एक्यूप्रेशर चिकित्सा विंग, फिजियोथैरपी विंग, इंडोर पेसेंट विंग, जूस सेंटर हैं। निरोगी काया का सूत्र बताने साहित्य भंडार है।

सेवासदन चिकित्सालय

नेत्र ज्योति की हिफाजत के लिए संतजी के सेवासदन की ख्याति दूर-दूर तक है। यहां इलाज की  उत्कृष्टता और सेवाभावी भावना के चलते हजारों की संख्या में मोतियाबिंद के ऑपरेशन हो चुके है। शिविर लगाकर लाखों नेत्र रोगियों की आंखों की जांच की गई है। सेवासदन की स्थापना 1987 में की गई थी। 

संतजी के सेवा पुष्प

  • - हिरदाराम नगर, गांधीनगर व आसपास के क्षेत्रों को नि:शुल्क पानी देन संत जल सेवा।
  • - निर्धन बच्चों की पढ़ाई के लिए नवयुवक परिषद की स्थापना की गई।
  • - निर्धनों की आंखों के इलाज के लिए सेवासदन नेत्र चिकित्सालय की स्थापना की।
  • - युवाओं को आत्म निर्भर बनाने स्वामी विवेकानंद कॅरियर अकादमी की स्थापना की।
  • - आधुनिक शिक्षा के लिए शहीद हेमू कालानी एज्युकेशनल सोसायटी की स्थापना की।
  • - बालिकाओं की उच्च शिक्षा के लिए जीव सेवा संस्थान ग्रुप ऑफ मैनजमेंट की स्थापना।
  • - धूप, हवा, पानी और योग से उपचार के लिए काम कर रहा आरोग्य केन्द्र।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *