संतनगर के लिए अलग बने मास्टर प्लाॅन

share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

– सिंधी सेन्ट्रल पंचायत करेगी मुख्यमंत्री से मुलाकात
हिरदाराम नगर। सिंधी सेन्ट्रल पंचायत ने संतनगर के समुचित विकास तथा समस्याओं को समाप्त करने के लिए क्षेत्र के लिए अलग से मास्टर प्लाॅन बनाने की मांग की है। इससे लालघाटी से लेकर एयरपोर्ट रोड, गांधीनगर, ग्राम कोलखेड़ी तक दस किलो मीटर क्षेत्र को शामिल करने का सुझाव दिया गया है। इसके लिए पंचायत ने जल्द ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान से मुलाकात कर ज्ञापन प्रस्तुत करने का निर्णय लिया है। पंचायत संस्थापक नानक चंदनानी, अध्यक्ष एन.डी. खेमचंदानी, उपाध्यक्ष वासुदेव वाधवानी, महासचिव सुरेश जसवानी एवं सचिव रमेश हिंगोरानी ने कहा है कि गांधीनगर एवं संत हिरदाराम नगर विस्थापितों नगरी है जहां विभाजन के बाद पश्चिमी पाकिस्तान से आने वाले सिंधी (हिन्दुओं) का बसाया गया था। तत्कालीन बैरागढ़ जिसकी बसावट 1950 से शुरू हुई, द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद रिक्त हुई एटेलियन कैदियों की बैरिके क्लैम में आवंटित की गई। तब से लेकर बीते 67 साल में जो भी विकास हुआ है, वह किसी योजना के तहत नहीं बल्कि समय के अनुसार स्वाभाविक विकास हुआ है।
बुनियादी सुविधाओं का अभाव
पंचायत ने कहा है कि आजादी के 70 साल बाद भी संत हिरदाराम नगर के नागरिक बुनियादी सुविधाओं से वंचित हैं। जीवन जीने के लिए जो आवश्यकता हैं बिजली, पानी, सड़क, यातायात , सफाई आदि समस्याओं से आज भी यहां की जनता जूझ रही है। जबकि इन बुनियादी सुविधाओं की पूर्ति के लिए आज तक कोई ठोस योजना नहीं थी। सीवजे सिस्टम बिगड़ा हुआ है एवं यातायात की समस्या गंभीर बनी हुई है। न तो रास्ते चैड़े हैं, न ही गलियों का स्वरूप बदला। जबकि यहां भी नए भोपाल की तरह चैड़े रास्तों एवं अतिक्रमण हटाकर गलियों का आकार बदलने की जरूरत है।
सरकारी आवास नहीं
संत हिरदाराम नगर एवं गांधीनगर ऐसा अभागा क्षेत्र है जो राजधानी भोपाल का अभिन्न अंग होते हुए भी सरकारी आवास सुविधा से वंचित है। सरकारी ने जरूरतमंदों की आवास आवश्यकता की पूर्ति के लिए कभी भी इस दिशा में कदम नहीं उठाया। हालांकि वन ट्री हिल्स, लक्ष्मण नगर , नर्सरी सहित अनेक कालोनियां बनी लेकिन वे निजी कालोनियां हैं जहां भी बुनियादी सुविधाओं का अभाव है।
ओव्हर ब्रिज का अभाव
बीते 50 सालों में राजधानी भोपाल में कई ओव्हर एवं अंडर ब्रिज बने लेकिन संत हिदरदाराम नगर में इस तरह का कोई विकास नहीं हुआ। आज भी रेलवे ओव्हर व अंडर ब्रिज की जरूरत है। लेकिन इसके अभाव में दिन में कई जिंदगियां ठहर सी जाती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *