कच्ची मिट्टी के समान होते हैं बच्च: संत वीधानी

share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

हिरदाराम नगर। संत निरंकारी मण्डल ब्रांच बैरागढ़ में बाल सत्संग में बच्चों को बचपन से ही आध्यात्मिकता से जोडऩे का प्रयास किया गया। सत्संग में बैरागढ़ के अलावा विजय नगर, गांधीनगर , कैलाश नगर एवं आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों से सैकड़ों बच्चों ने सत्संग का लाभ लिया।
इस अवसर पर ब्रांच संयोजक महेश वीधानी ने कहा कि बच्चे कच्ची मिट्टी के समान होते हैं उन्हें जो रूप दिया जायेगा वे उसी रूप में ढल जायेंगे। बचपन से ही बच्चों को निरंकारी मिशन में आज्ञाकारी एवं सेवादारी बनने का पाठ पढाया जाता है ताकि युवावस्था में अपनी भूमिका को समझ सकें । आज अगर हम देखें को युवा पीढ़ी भटकती जा रही है क्योंकि उनको बचपन में वो संस्कार या वो सीख नहीं मिली निरंकारी मिशन बचपन से ही बच्चों को चरित्रवान, गुणवान की सीख देता है ताकि बड़े होकर किसी गलत आदत या गलत संगत में न आ जायें । प्रति रविवार सैकड़ो अभिभावक बच्चों को यह सच की तालीम देने के लिए सत्संग भवन में लेकर आते हैं क्योंकि उन्हें मालूम है कि असली शिक्षा बच्चों को चरित्रवान बनाना है ।
बाल सतसंग इंचार्ज बहिन दीपा आडवानी जी ने बताया कि छोटे छोटे बच्चों व्दारा ही भजन कीर्तन ढोलक वादन , प्रवचन एवं सभी सेवा कार्य करवाये जाते हैं इसके अलावा बच्चों में जागृति प्रदान करने के लिए समय समय पर मिषन पर आधारित प्रतियोगिताएं , खेलकूद, ष्षारीरिक व्यायाम, पेंटिंग प्रतियोगिता करवाकर बच्चों का रूझान सतसंग के प्रति बढाया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *