गुरू पुर्णिमा : गुरु की महिमा प्रभु से ज्यादा

share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

 

 

संतनगर. 8 जुलाई 2017

गुरु की महिमा प्रभु से भी ज्यादा हैं प्रभु से मिलवाने का कार्य भी हमें गुरु ही करवाता है गुरु वह है जो शिष्य को अज्ञानरुपी अंधकार से ज्ञानरुपी प्रकाश की ओर ले जाता है। गुरु हमारे पथ प्रदर्शक व मार्गदर्शक हंै, जो विद्यार्थियों को नई दिशा प्रदान करते हैं इसलिए हमें केवल आज के दिन ही नहीं वरन सदैव अपने गुरुओं का सम्मान करना चाहिए।

यह विचार शिक्षाविद् वासदेव मोतियानी ने व्यक्त किए। वे साधु वासवानी स्कूल में गुरूपूर्णिमा पर्व पर आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। इस अवसर बच्चों ने रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत कर गुरूओं के प्रति अपनी भावनाएं व्यक्त कीं। कार्यक्रम का प्रांरभ गुरू वंदना एवं मां सरस्वती के चित्र पर माल्र्यापण के साथ हुई। शिक्षिका दीपा आहूजा ने कहा कि गुरु ही हमें मार्गदर्शन प्रदान करता है हमें अपने शिक्षकों का कहना सदैव मानना चाहिए। क्योंकि शिक्षक ही हमारे पथ प्रदर्शक हैं।

बच्चों ने दीं प्रस्तुतियां

विद्यालय के छात्र अश्विनी रीझवानी और रक्षा गर्ग ने भी विचार व्यक्त किए। छात्रा भाविका व हिमानी ने गीत आओ हम गुरुजनों का सम्मान करें और जिया और गुंजन ने गुरु ब्रम्हा, गुरु विष्णु गुरु देवो महेश्वरा प्रस्तुत की। स्वाति कलवानी ने आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर स्वाति कलवानी, रुपाली मेश्राम, आशा, कांता खैराजानी, पूनम वाधवानी, लता आसनानी, जितेंद्र त्यागी व विद्यार्थी मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालनभावना कलवानी ने किया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *