विषम परिस्थितियों में भी बेहतर प्रदर्शन के लायक बनाए विद्यार्थियों को

 

हिरदाराम नगर। 25 अप्रैल 2018

नवनिध हासोमल लखानी पब्लिक स्कूल में क्षमता निर्माण कार्यक्रम के तहत कार्यशाला का आयोजन किया गया, जिसमें आकलन के पुनर्निमित संरचना  विषय पर विशेषज्ञ पूनम शेखावत एवं राजेष अवस्थी अपनी बात रखी। संतजी के उत्तराधिकारी सिद्धभाऊ ने भी विचार रखे। कार्यक्रम की शुरूआत परंपरागत तरीके से हुई। प्राचार्य मनीष आर.के.जैन ने विशेषज्ञों को स्वागत  किया और कार्यशाला के उद‌्देश्य पर प्रकाश डाला।

विषय विशेषज्ञों ने विभिन्न विद्यालयों से आए टीचर्स के साथ अपने-अपने अनुभवों को साझा किया। साथ ही विषम परिस्थितियों में भी छात्र-छात्राओं द्वारा बेहतर प्रदर्शन कराने हेतु सुलभ एवं सहज तरीकों की जानकारी प्रस्तुत की। कार्यशाला में सीबीएसई  द्वारा निर्धारित स्कीम के बारे में विस्तार से चर्चा की गई। अवधिवार परीक्षा एवं विषय संवर्धन गतिविधि के महत्त्व से अवगत कराया गया। साथ ही नोटर बुक पूरी करना, उसका असिसमेंट करना क्यों जरूरी है इस संदर्भ में विस्तार से चर्चा की गई। कार्यशाला में बताया कि नवमीं और दसवीं में छात्र-छात्राओं के भविष्य के निर्माण की प्रथम सीढ़ी का कार्य करते हैं। सीसीए गतिविधियां बच्चों के सम्पूर्ण विकास में सहायक बताते हुए संगीत, खेल, मार्षल आर्ट, स्वच्छ भारत अभियान आदि के महत्त्व को भी समझाया। प्रतिदिन एक कालखंड खेल का होना अनिवार्य बताया गया।  कार्यशाला में  विदिशा, ब्यावरा, सिरौंज, रतनपुर, मण्डीदीप, इटारसी, हरदा, गंजबासौदा, भोपाल के विभिन्न विद्यालयों के प्रतिभागियों सहित मिठी गोबिंदराम पब्लिक स्कूल एवं नवनिध हासोमल लखानी पब्लिक स्कूल के टीचर्स एवं प्राचार्यों ने हिस्सा लिया।

 

टीचर्स अपनी ताकत पहचानें

सिद्धभाऊ ने कहा कि टीचर्स का यह दायित्व है कि वे अपनी शक्ति को पहचानें और वर्तमान पीढ़ी का सही दिशा निर्देश करें, उनके कुशल निर्देशन में मानसिक विकृतियों की शिकार एवं भ्रमित युवक-युवितयों को सही दिशा मिल सके।  उन्होंने कहा कि जो शिक्षक, शिक्षिका आलस के कारण विद्यार्थियों को अपना सक्रिय एवं अपेक्षित सहयोग नहीं दे पाते वे स्वयं भी आत्मसंतोष से विमुख रहते हैं। भाऊ ने कहा कि किशोरावस्था, नाजुक अवस्था होती है इस अवस्था में छात्र-छात्राओं को जैसा चाहे वैसा बनाया जा सकता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *