डरावने शहर: इंसान भाग गए, रहते हैं भूत

share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

बीडीसी न्यूज डेस्क
सुनसान सड़कें, खाली इमारतें और भूतों का साया… शहर हैं लेकिन लोग नहीं रहते। डरावने शहरों में केवल मंडराती हैं चीले। भारत में है ऐसा शहर भानगढ़ जो रराजस्थान में है।

  • अब इन सब जगहों की असल सच्चाई क्या है यह तो हमें पता नहीं पर यह केवल भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी होती हैं। चलिए, आज ऐसे ही कुछ शहरों के बारे में जानते हैं जो हॉन्टेड प्लेसेस के नाम से मशहूर हैं।
  • सेंट एलमो, कोलोराडो
    सेंट्रल कोलोराडो से रेलवे लाइन तक की सुविधा यहां मौजूद थी, लेकिन साल 1922 में रेल रोड बंद होने के बाद से ये जगह बिल्कुल सुनसान पड़ी हुई है। एक समय में ये बहुत बड़े माइनिंग टाउन के नाम से मशहूर था।
  • बोडी, कैलिफोर्निया
    साल 1879 में बोडी में सोने की खान थी और लगभग 8,500 लोग यहां रहते थे। ये लोग खासतौर से गन फाइटिंग और लड़ाई-झगड़ों के लिए जाने जाते थे। धीरे-धीरे लोग यहां से जाने लगे। इसके बाद से लगभग 150 इमारतें और बहुत सारे घर ऐसे ही खाली पड़े हुए हैं।
  • भानगढ़, राजस्थान, इंडिया
    इंडिया में भानगढ़ का किला डरावनी जगहों में से एक है। इसे जयपुर के राजा ने 1720 में बनवाया था। आस-पास की खाली जगहें और सुनसान रोड यहां आने वाले सैलानियों को डराने के लिए काफी हैं।
  • हम्बरस्टोन एंड सांता लॉरा,एटेकैमा डेजर्ट, चिली
    चिली का साल्टपीटर माइन्स 1958 में ही बंद हो गया था। इसके बाद से ही यहां के थिएटर्स, स्विमिंग पूल्स, घर, होटल और दुकानें खाली पड़ी हुई हैं, जिन्हें देखकर अजीब और डरावना अनुभव होता है।
  • बेलशिटे जैरागोजा प्रोविन्स, स्पेन
    साल 1936-39 के बीच हुए स्पेनिश सिविल वॉर के बाद से ये जगह ऐसे ही खाली पड़ी हुई है। इसे फ्रांस ने 1937 में अपने कब्जे में ले लिया था। लड़ाई के वक्त ही ज्यादातर इमारतों सहित ज्यादातर जगहें बर्बाद हो गई थीं। इसके बाद लोगों ने भी ये जगह छोड़ दी।
  • कोलमन्सकॉप, नामीबिया
    डायमंड माइन के नजदीक नामीबिया डेजर्ट है। 1950 में इस जगह से लोगों का पलायन होना शुरू हो गया था। इसके बाद से ये जगह खाली पड़ी हुई है। फिर भी यहां की कुछ बिल्डिंग्स अभी भी अच्छी हालत में हैं लेकिन वहां रेत के सिवा कुछ दिखाई नहीं देता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *