कांग्रेसी हंगामा करते रहे, राज्यपाल गिनातीं रही उपलब्धियां

share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

 

भोपाल। 26 फरवरी 2018

राज्यपाल आनंदी बेन पटेल के अभिभाषण के साथ ही मध्यप्रदेश की 14वीं विधानसभा के 5वें बजट सत्र का आगाज हो गया है।… राज्यपाल ने अभिभाषण में सरकार की उपलब्धियों को गिनाया और हर गरीब के लिए रोटी, कपड़ा, मकान के साथ पढ़ाई, दवाई और रोजगार उपलब्ध कराने की प्राथमिकताएं दोहरायी।

राज्यपाल आनंदी बेन ने 139 पैराग्राफ के अभिभाषण के अंशों को संक्षिप्त में पढ़ा और 19 मिनट में अभिभाषण समाप्त हो गया। … राज्यपाल आनंदी बेन ने अभिभाषण में कहा कि मेरी सरकार सबका साथ – सबका विकास की अवधारणा से कार्य कर रही है। सरकार का लक्ष्य गरीबों के लिए रोटी, कपड़ा और मकान के साथ पढ़ाई, दवाई और रोजगार देना है और रहेगा। सरकार नदियों के संरक्षण के लिए कृत संकल्पित है। नर्मदा सेवा यात्रा की सफलता और नदियों के संरक्षण को सरकार की प्रतिबद्धता बताई। राज्यपाल ने कहा कि भावांतर योजना किसानों के लिए बेहद लाभकारी साबित हुई है। लाड़ली लक्ष्मी योजना का लाभ अब तक 27 लाख महिलाओं को दिया जा चुका है। राज्यपाल ने एकात्म यात्रा का जिक्र किया, जिससे प्रदेश में सामाजिक सांस्कृतिक रूप से मजबूती आई है। आनंदीबेन ने प्रदेश में दुष्कर्म के दोषियों को फांसी का प्रावधान करने, सीएम हेल्पलाइन में हर रोज 50 हजार शिकायतों का निराकरण व कई उपलब्धियों का ब्योरा रखा। प्र

कांग्रेस का हंगामा

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के अभिभाषण के दौरान मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने कई बार हंगामा और शोर-शराबा किया। कांग्रेस ने किसानों के मुद्दों पर कागज लहराकर नारेबाजी की। राज्यपाल के 19मिनट के अभिभाषण में करीब 10 मिनट तक शोर शराबा होता रहा।

राज्यपाल के अभिभाषण में हंगामे की शुरूआत किसानों के मुद्दे पर हुई और अंत तक जारी रही। राज्यपाल आनंदीबेन ने जैसे ही किसानों के लिए योजनाओं की उपलब्धियों का उल्लेख किया तो सदन में कांग्रेस ने कागज लहराकर नारेबाजी और हंगामा किया। कांग्रेस विधायकों का कहना था कि उनकी आवाज दबाई जा रही है। सदन में विपक्ष के विधायकों के माइक बंद हैं लेकिन राज्यपाल ने अभिभाषण जारी रखा। इसके बाद राज्यपाल ने अभिभाषण में भावांतर योजना, प्याज खरीदी, बिजली सब्सिडी, आबकारी नीति, प्रधानमंत्री आवास योजना, महिला सुरक्षा के नए कानून का जिक्र किया तो विपक्ष के विधायक मुकेश नायक, सुंदरलाल तिवारी, जयवर्द्धन सिंह, रामनिवास रावत सहित अन्य सदस्यों ने हंगामा किया। इसके बावजूद राज्यपाल आनंदी बेन ने अभिभाषण जारी रखा और 11 बजकर 34 मिनट पर अभिभाषण समाप्त किया। नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा कि राज्यपाल अभिभाषण पूरा नहीं पड़ सकीं। इससे सत्ता पक्ष के मंत्री और विधायक भी हैरान रहे। सत्ता पक्ष की ओर से तालियां भी नहीं बजीं। अभिभाषण में पुरानी योजनाओं का ही जिक्र है। राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान कांग्रेस के हंगामेदार व्यवहार पर संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि इससे पीड़ा हुई है। यह अच्छी परंपरा नहीं है। कांग्रेस अपने व्यवहार पर पुनर्विचार करे। वहीं गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि कांग्रेस का व्यवहार परंपराओं के विपरीत है। राज्यपाल के अभिभाषण पर भाजपा विधायक रामेश्वर शर्मा ने सदन में कृतज्ञता ज्ञापन प्रस्तुत किया जिसका विधायक कैलाश जाटव ने समर्थन किया। राज्यपाल के अभिभाषण पर 7 और 8 मार्च को चर्चा होगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *