*NEET परीक्षा MOP UP राउंड की लिस्ट जारी करने में देरी का कारण बताये सरकार*

share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

*प्रदेश के युवाओं का हक मारकर बाहर के लोगों को मिला NEET में प्रवेश*

bhopal 12 sep 2017
NEET परीक्षा शुरू से ही संदेह के घेरे में रही है। पहले प्रदेश के बाहर के छात्रों के दो दो मूल निवासी प्रमाण पत्र का मामला आया, जिसे विचार मध्यप्रदेश की कोर कमिटी सदस्य विनायक परिहार ने कोर्ट में लड़ा और प्रदेश के युवाओं को उसका हक़ दिलाया। इसके बावजूद भी NEET में हो रहे घोटाले रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद में पुनः कॉउंसलिंग कराने में भी बड़ा घोटाला हुआ है।
2 दिन पूर्व अंतिम राउंड (MOP UP) की कॉउंसलिंग में भारी अनियमितताएं सामने आई हैं।
विचार मध्यप्रदेश के कोर कमिटी सदस्य गिरिजा शंकर शर्मा, पारस सकलेचा, विजय वाते, विनायक परिहार और अक्षय हुँका ने संयुक्त प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए कहा कि कॉउंसलिंग के अंतिम चरण में पुनः प्रदेश के युवाओं को ठगा गया। अंतिम चरण की कॉउंसलिंग में प्रदेश के युवाओं को दरकिनार करके बाहर के 94 छात्रों को MBBS की सीट अलॉट कर दी गयी हैं। पहले चरणों की अलॉटमेंट लिस्ट कॉउंसलिंग समाप्त होने के तुरंत बाद DME वेबसाइट पर अपलोड कर दी जाती हैं लेकिन MOP UP राउंड के 2 दिन बाद भी अलॉटमेंट लिस्ट जारी नहीं कि गयी है, जो साफ दर्शाता है कि इसमें गड़बड़ करने की कोशिश किंजल रही है।
साथ ही MOP UP राउंड की कॉउंसलिंग के बाद छात्रों का मुख्यमंत्री निवास को घेरना स्पष्ट संदेश देता है कि प्रदेश के युवाओं को प्रदेश की सरकार पर भरोसा नहीं रह गया है।
विचार मध्यप्रदेश मांग करता है कि
(1) MOP UP राउंड की अलॉटमेंट लिस्ट तुरंत DME की वेबसाइट पर अपलोड की जाए।
(2) NEET के पूरे घटनाक्रम पर सरकार को श्वेतपत्र जारी कर बताये कि आखिर क्यों छात्रों को हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट जाने की ज़रूरत पड़ी और क्यों कॉउंसलिंग के दिन मुख्यमंत्री निवास के घेराव की ज़रूरत पड़ी।
(3) NEET में सीट बंटवारे में हुई गड़बड़ की जाँच के लिए उच्च स्तरीय समिति का गठन किया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *