ऋणी & अऋणी किसान 16 अगस्त तक कराएं फसल बीमा

share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn
प्राकृतिक आपदा में सुरक्षा पाएं, फसल बीमा अवश्य कराएंl
किसानों को देना होगा केवल दो प्रतिशत प्रीमियम राशि
रायसेन 25 जुलाई 2017
 जिले में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत सोयाबीन के लिए 291 पटवारी हल्के, धान के लिए 314 पटवारी हल्के, तुअर के 222 हल्के तथा मक्का फसल के लिए 5 पटवारी हल्के अधिसूचित किए गए हैं।
 प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत ऋणी एवं अऋणी किसान फसल बीमा करा सकते हैं। अऋणी किसानों को बीमा योजना से जोड़ने के लिए तहसीलवार पूर्व निर्धारित लक्ष्य ही खरीफ मौसम वर्ष 2017 के लिए लागू रहेंगे। शासन द्वारा फसल बीमा योजना के अंतर्गत खरीफ मौसम 2017 के लिए अऋणी किसानों से प्रस्ताव प्राप्त होने की अंतिम तिथि तथा ऋण लेने की अवधि 01 अप्रैल से 16 अगस्त तक निर्धारित की गई है। किसानों के खातों से प्रीमियम काटने की अंतिम तिथि 01 अप्रैल से 16 अगस्त तक निर्धारित की गई है।
 अऋणी किसानों को लाने होंगे यह दस्तावेज
 प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत अऋणी किसानों को भू-अधिकार पुस्तिका, पटवारी या ग्राम पंचायत सचिव या सरपंच द्वारा जारी किया गया बोनी का प्रमाण पत्र, पूर्णतः भरा हुआ प्रस्ताव फार्म के साथ बैंक एकाउण्ट की छायाप्रति, मतदाता फोटो परिचय पत्र, पेन कार्ड, आधार कार्ड अथवा अन्य पहचान पत्र की छायाप्रति जमा करना होगा।
रायसेन जिले के लिए अधिसूचित फसलें
 प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत रायसेन जिले के लिए धान, सोयाबीन, तुअर, मक्का, मूंग तथा उड़द फसल अधिसूचित की गई है। इसमें उड़द तथा मूंग जिला स्तर पर अधिसूचित है।
किसानों द्वारा देय प्रीमियम की राशि
 प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत जिले में खरीफ 2017 के अंतर्गत अधिसूचित किए गए पटवारी हलकों में अधिसूचित फसलों के लिए निर्धारित प्रीमियम राशि जमा कर बीमा करा सकेंगे। खरीफ फसल धान सुगंधित के लिए प्रति हैक्टेयर 42 हजार रूपए की राशि निर्धारित हैं जिसमें किसानों को दो प्रतिशत प्रीमियम राशि 840 रूपए देना होगा। इसी प्रकार धान मोटा के लिए प्रति हैक्टेयर 30 हजार रूपए की राशि निर्धारित है, जिसमें किसानों को दो प्रतिशत प्रीमियम राशि 600 रूपए देना होगा।
 मक्का के लिए प्रति हैक्टेयर 18800 रूपए की राशि निर्धारित हैं, जिसमें किसानों को दो प्रतिशत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *