14 हजार 600 मतगणना कर्मी तैनात, 532 उम्मीदवारों को नोटिस

भोपाल। दिसम्बर 2, 2018
मध्यप्रदेश विधानसभा निर्वाचन 2018 के लिये 11 दिसम्बर, 2018 को सभी जिलों में रिटर्निंग ऑफिसर द्वारा प्रात: 8.00 बजे से आयोग द्वारा अनुमोदित मतगणना स्थलों में मतगणना प्रारंभ होगी। प्रदेश में मतगणना 306 मतगणना कक्षों में की जायेगी। प्रत्येक मतगणना केन्द्र पर 14 टेबिल के साथ 1 टेबल मतपत्रों की गिनती के लिये लगाई जायेगी। इस प्रकार कुल 3 हजार 450 टेबिल लगाई जायेंगी। मतगणना के लिये रिजर्व सहित लगभग 14 हजार 600 मतगणना कर्मियों को तैनात किया जायेगा। निर्वाचन व्यय का ब्यौरा 2 हजार 367 प्रत्याशियों द्वारा दिया गया

532 उम्मीदवारों को नोटिस
विधानसभा निर्वाचन 2018 में चुनाव लड़ रहे 2899 उम्मीदवारों में से 2367 उम्मीदवारों ने समय पर लेखा प्रस्तुत किया है। समय पर लेखा जमा नहीं करने के कारण 532 उम्मीदवारों को नोटिस जारी किये गये हैं, जिनमें से 27 उम्मीदवारों के विरूद्ध आर.पी. एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज कराये गये हैं। लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 77 के अंतर्गत चुनाव लड़ रहे प्रत्येक अभ्यर्थी के लिये निर्वाचन व्यय के लेखे को संधारित किया जाना अनिवार्य है। मतदान दिवस से पूर्व किये गये निर्वाचन व्यय की जांच के लिये निर्वाचन व्यय प्रेक्षक को निर्धारित समयावधि में प्रस्तुत किया जाना अनिवार्य है। समय में प्रस्तुत नहीं करने पर नोटिस दिया जाता है। नोटिस दिये जाने के बाद भी यदि कोई लेखा प्रस्तुत नहीं करता है, तो उसके खिलाफ भारतीय दण्ड संहिता 1860 की धारा 171 (झ) के अनुसार प्रकरण दर्ज कराया जाता है।
वीवीपीएैट की पर्ची का मिलान होगा
भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में एक मतदान केन्द्र का चुनाव रेण्डम आधार किया जाकर, उस मतदान केन्द्र में उपयोग हुए व्ही.व्ही.पीएटी. की स्लिपों का मिलान ईव्हीएम के कंट्रोल यूनिट में प्रदर्शित परिणाम से अनिवार्यत: किया जायेगा। यह कार्य अभ्यर्थियों/निर्वाचन अभिकर्ताओं एवं केन्द्रीय प्रेक्षक की उपस्थिति में होगा। इसकी वीडियोग्राफी भी करवाई जाएगी। मतगणना हॉल के अन्दर ही व्हीव्हीपीएटी की स्लिप से अनिवार्य सत्यापन हेतु व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी। इस मतगणना हेतु व्हीव्हीपीएटी काउंटिंग बूथ का निर्माण, जिसमें जालीनुमा कवरेज होगा, जैसा कि बैंक के कैशियर का होता है, जिससे किसी भी अन्य व्यक्ति की पहुंच व्हीव्हीपीएटी की स्लिप तक न हो, इस प्रकार की व्यवस्था सुनिश्चित की जायेगी। इसके लिये रिटर्निंग ऑफिसर द्वारा सभी अभ्यर्थियों को पूर्व में ही सूचना दी जायेगी। मतदान केन्द्र के चयन के लिये एक गुणा एक इंच आकार के सफेद कागज पर मतदान केन्द्रों के नम्बर लिखकर कंटेनर में डाले जायेंगे और पर्ची निकालकर, केन्द्र का रेण्डम चयन होगा। यह कार्य ईव्हीएम से गणना के अंतिम राउण्ड के तत्काल पश्चात् किया जायेगा। यह कार्य केन्द्रीय प्रेक्षक की उपस्थिति एवं कड़ी निगरानी में होगा। परिणाम घोषणा के पूर्व रिटर्निंग ऑफिसर द्वारा व्हीव्हीपीएटी की स्लिप की गणना पश्चात् कंट्रोल यूनिट के परिणाम से मिलान कर एक सत्यापन पत्रक जारी किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *