Cervical Spondylosis : घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

कैसे होता है ?

गर्दन से गुजरने वाली रीढ़ के बिच की डिस्क या हड्डियों के जोड़ों में लम्बे समय तक रगड़ से
हड्डियों में असाधारण वृधि से |

लक्षण ?

  1. गर्दन में कडापन
  2. कन्धों, बाहों व पैरों में शून्यता आ जाती है
  3. सिर के पिछले भाग में दर्द

कारण ?

  1. गर्दन में पुरानी चोट
  2. गढ़िया (रोग) की गंभीर स्थिति
  3. सिर को सामान्य से आगे की और झुककर बैठने से
  4. कन्धे झुकाकर रख ने से व चल ने से
  5. घुटनों को लम्बे समय तक मोड़ कर रखने से

कैसे बचें ?

  1. नियमित गर्दन की व्यायाम करें
  2. रोज समान्यता लम्बे समय तक एक ही मुद्रा में ड्राइविंग, लेपटोप, टीवी, कंप्यूटर, मोबाईल आदि का उपयोग ना करें,
    जंक फ़ूड से बंचे

योग और व्यायाम

कम जोर डालने वाली गतिविधियाँ गर्दन के साथ रीढ़ हेतु सर्वोत्तम व्यायाम होते हैं जैसे तैरना, पैदल चलना, और योग।
गति वाले व्यायाम

  1. अपने सिर को दाहिनी ओर धीरे-धीरे घुमाएँ जब तक कि ये दुखने ना लगे, रुकें, और वापस केंद्र पर आ जाएँ। इसको बाएँ हिस्से के साथ दोहराएँ।
  2. अपनी ठोढ़ी को छाती की तरफ झुकाएं, रुकें, और आराम करें। सिर को वापस ऊपर लाएँ।
  3. अपने सिर को सीधा रखकर बाएँ कान की तरफ मोड़ें, रुकें, और वापस लौट कर केंद्र पर आ जाएँ. इसको दाहिनी तरफ से भी दोहराएँ।
  4. अपने सिर को पीछे की तरफ झुकाएं ताकि आप छत देख सकें, रुकें और अपने सिर को वापस नीचे ले आएँ।

आहार क्या लें ?

  1. विटामिन से भरपूर फल और सब्जियों का सेवन करें जैसे संतरा, नीबू, पपिता, गाजर आदि
  2. सुजन और दर्द को कम करने हेतु हल्दी, लॉन्ग, अदरक, इलायची को रोज के अहार से जोड़ें
  3. दूध और दूध से बने पदार्थ, बदाम, सोयाबीन, टोफू, ओमेगा 3 व विटामिन E युक्त पदार्थ जैसे मछली, नटस आदि का सेवन

क्या ना लें ?

  1. अधिक नमक ,मसाले वाला आहार
  2. रेड मिट, आलू, कोफ़ी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *