मन की बात में बापू और सर्जिकल स्ट्राइक

नई दिल्ली 30 सितंबर 20168
पीएम नरेंद्र मोदी ने अपनी 48वीं मन की बात में एक बार फिर से सर्जिकल स्ट्राइक का जिक्र किया। पीएम ने कहा कि शनिवार को सवा सौ करोड़ देशवासियों ने सर्जिकल स्ट्राइक की याद में पराक्रम पर्व मनाया। मोदी ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक आतंक की आड़ में चलाए जा रहे प्रॉक्सी वॉर की धृष्टता करने वालों को दिया गया मुंह तोड़ जवाब था।

पीएम मोदी ने कहा कि पराक्रम पर्व के दौरान देश में अलग-अलग स्थानों पर सेना के एग्जिबिशन लगाए गए। ऐसा इसलिए ताकि युवा पीढ़ी जान सके कि हमारी ताकत क्या है। पीएम ने कहा कि अब यह तय हो चुका है कि हमारे सैनिक उन सबको मुंह तोड़ जवाब जेंगे तो हमारे राष्ट्र की शांति और उन्नति के माहौल को नष्ट करने का प्रयास करें। पीएम ने कहा कि हमारी नजर दूसरों की धरती पर कभी नहीं रही। 20वीं सदी के दो विश्वयुद्धों में हमारे एक लाख से अधिक सैनिकों ने बलिदान दिया।

पीएन ने कहा कि भारत का नाम उन देशों में शुमार है जिसके सर्वाधिक सैनिक यूएन पीसकीपिंग मिशन में लगे हैं। पीएम ने 8 अक्टूबर को मनाए जाने वाले वायुसेना दिवस से पहले देश के एयर वॉरियर्स को याद किया। 1947, 1965, 1971 और करगिल युद्ध के साथ-साथ आपदा राहत व बचाव कार्यों में वायुसेना की भूमिका की तारीफ की।

गांधी के मंत्र को किया याद
पीएम ने मन की बात के दौरान आने वाले 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री को याद किया। पीएम ने बताया कि सरकार दो साल तक महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाएगी, जिसकी शुरुआत 2 अक्टूबर से होगी। इस क्रम में पीएम ने लोगों से खादी के कपड़े खरीदने की भी अपील की।

मोदी ने कहा कि डॉ मार्टिन लूथर किंग जूनियर और नेल्सन मंडेला जैसी विभूतियों ने भी गांधी के विचारों से शक्ति पाई। स्वच्छता के प्रति महात्मा गांधी के आग्रह को याद करते हुए पीएम ने पिछले दिनों स्वच्छ भारत मिशन के अपने कार्यक्रम भी जानकारी दी। पीएम मोदी ने गांधी के जंतर को याद करते हुए कहा कि यह आज भी देश के लिए उतना ही प्रासंगिक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *