राज्य सभा: विश्वास, आशुतोष नहीं आप की पसंद

share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

नई दिल्ली 03 jan 2018
आम आदमी पार्टी ने संजय सिंहए जाने.माने चार्टर्ड अकाउंटेंट एनण् डीण् गुप्ता और पूर्व कांग्रेस नेता सुशील गुप्ता को संसद के उच्च सदन राज्यसभा के लिए उम्मीदवार बनाया है। दिल्ली के डेप्युटी सीएम मनीष सिसोदिया ने पीएसी की बैठक के बाद इसका ऐलान किया। दिल्ली से राज्यसभा की 3 सीटों के लिए 5 जनवरी नामांकन की आखिरी तारीख है। पार्टी के वरिष्ठ नेता कुमार विश्वास भी रेस में शामिल थेए लेकिन पार्टी ने उन्हें टिकट नहीं दिया है।
बुधवार को आम आदमी पार्टी की पॉलिटिकल अफेयर्स कमिटी की बैठक हुई जिसमें राज्यसभा के लिए उम्मीदवारों के नामों पर चर्चा हुई। सिसोदिया ने बताया कि अलग.अलग क्षेत्रों के विशेषज्ञों से संपर्क किया गया। राज्यसभा की उम्मीदवारी के लिए पार्टी से बाहर के कुल 18 लोगों से संपर्क किया गया लेकिन कुछ ने मना कर दिया तो कुछ पार्टी से जुड़ना नहीं चाहते थे। सिसोदिया ने कहा कि पीएसी की बैठक में 11 नामों पर विस्तृत चर्चा हुई। बता दें कि राज्यसभा की उम्मीदवारी के लिए ।।च् में गुटबंदी खुलकर सतह पर आ गई थी। कुमार विश्वास को राज्यसभा भेजने के लिए उनके समर्थकों ने कुछ दिन पहले दिल्ली में पार्टी मुख्यालय में धरना दिया था। वहींए एक गुट कुमार विश्वास को राजस्थान में लोकसभा की 2 सीटों के लिए हो रहे उप चुनाव में उम्मीदवार बनाए जाने की मांग कर रहा है। कुमार आम आदमी पार्टी के राजस्थान प्रभारी हैं।

पार्टी ने तय किया था कि राज्यसभा पार्टी के लोगों की बजाय एक्सपर्ट्स को भेजा जाएगा और रघुराम राजन से लेकर जस्टिस टीण्एसण्ठाकुर तक कई बड़े नामों से संपर्क कियाए लेकिन सबने पार्टी के नाम के साथ जुड़ने से इनकार कर दिया। जिसके बाद एनण्डीण् गुप्ता और सुशील गुप्ता का नाम तय किया गया।
शहादत स्वीकार करता हूंऋविश्वास

उम्मीदवारों के ऐलान के बाद मीडिया से बातचीत में कुमार विश्वास ने कहाए श्अरविंद ने मुझसे एक बार कहा था कि सर जीए आपको मारेंगेए पर शहीद नहीं होने देंगे। मैं अपनी शहादत स्वीकार करता हूंए बस एक निवेदन करता है कि युद्ध का भी एक छोटा सा नियम होता है कि शव के साथ छेड़छाड़ नहीं की जाती। शहीद तो कर दियाए पर शव के साथ छेड़छाड़ न करें और आगे से पार्टी दुर्गंध ना फैलाए।श्

पार्टी के संस्थापक सदस्यों में से एक विश्वास ने कहा कि उन्हें सच बोलने की सजा दी गई है। उन्होंने कहाए श्चाहे सर्जिकल स्ट्राइक का मामला होए पंजाब में अतिवादियों के प्रति सॉफ्ट रहने का मामला होए जेएनयू का मामला होण्ण्ण्सैनिकों की बात होए मैंने जो सच बोलाए उसका मुझे दंड मिला है।श्

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *