बाबूलाल गौर को आया मैसेज, उत्तर से लड़ो चुनाव


चर्चा-ए-खास

भोपाल।
गोविंदपुरा विधानसभा सीट के अजेय उम्मीदवार बाबूलाल गौर के टिकट को लेकर असमंजस्य है। खबर दिल्ली से आ रही है… गौर ने दो टूक शब्दों में कह दिया है कि कृष्णा के अलावा और कोई केंटीडेट गोविंदपुरा से बर्दाश्त नहीं होगा। हालांकि गौर के सामने उत्तर विधानसभा क्षेत्र से लड़ने का विकल्प पार्टी ने रखा है, जिसके लिए गौर कतई तैयार नहीं हैं। खबर तो यहां तक है कि गौर की बात पार्टी ने नहीं मानी तो वह आजाद होकर मैदान में नजर आएंगे।
भाजपा के दमदार नेता और शिवराज सरकार से उम्रदराज होने पर मंत्रिमंडल से बाहर किए गए.. गौर को लगता है उन्हें चलती ट्रेन से उतारा गया है। विधानसभा चुनाव में गौर गोविंदपुरा से चुनाव लड़ने की तैयार में हैं। भोपाल कार्यकर्ता सम्मेलन में पीएम नरेन्द्र मोदी से हुई कुछ पलों की मुलाकात और एक और गौर साहब के मायने मीडिया ने अपने-अपने तरीके से निकाले थे। लेकिन, टिकट बंटवारे के समय गौर गोविंदपुरा विधानसभा सीट का फैसला करने में पार्टी के लिए खासी परेशानी बन रहे हैं। गौर ने चुनाव के लिए अपनी दावेदारी की है। सीट पर महापौर आलोक शर्मा, तपन भौमिक की नजर है। माना जा रहा है गौर यदि किसी नाम पर मनेंगे तो वह होगा उनकी पुत्र वधु कृष्णा गौर का।
सियासी सूत्र बताते हैं गौर को दिल्ली से मैसेज आया है, गौर साहब उत्तर से चुनाव लड़ लीजिए। पार्टी गोविंदपुरा सीट पर दूसरा चेहरा बतारना चाह रही है। गौर को उत्तर भेजने के दो मकसद हैं पार्टी के। पहला कांग्रेस के गढ़ को भेदने के लिए बड़ा नाम मिलना। दूसरा गोविंदपुरा सीट गौर और उनकी बहू कृष्णा गौर की दावेदारी खत्म करना।
हाईकमान से मिले मैसेज के बाद गौर ने साफ कह दिया है कि गोविंदपुरा पर भाजपा केवल कृष्णा का फैसला ले। दूसरा नाम आया तो आजाद होकर भी ताल ठोक सकता हूं। खबर तो यह भी मीडिया में चल रही है उत्तर से पार्टी रामेश्वर शर्मा का चेहरा देख रहे है। गोविंदुपरा में आलोक शर्मा का नाम रखा है,महापौर होते हुए चुनाव लड़ने का मामला सामने आने के बाद उच्च स्तर पर तक रखा गया है कि मालनी गौड़ की तरह काम करेंगे आलोक।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *