डोकलाम_ चीन के साथ सीमा गतिरोध का हल युद्ध से नहीं

share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn
नई दिल्ली, 03 aug 2017
भारत ने  कहा कि चीन के साथ सीमा गतिरोध का हल युद्ध से नहीं बल्कि द्विपक्षीय बातचीत से ही हो सकता है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने राज्यसभा में कहा कि धैर्य से ही सभी समस्याओं का हल निकलता है और अगर धैर्य नहीं रहा तो दूसरे पक्ष को उकसाया जा सकता है।

सुषमा ने डोकलाम गतिरोध का जिक्र करते हुए कहा कि हम मुद्दे के लिए धैर्य बनाए रखेंगे। वह भारत की विदेश नीति और सामरिक भागीदारी के साथ तालमेल विषय  पर राज्यसभा में हुई अल्पकालिक चर्चा का जवाब दे रही थीं। सुषमा ने कहा कि भारत विवाद के हल के लिए चीन से बातचीत करता रहेगा। चर्चा में कई सदस्यों ने इस गतिरोध को लेकर चिंता जताई थी और भारत की विदेश नीति को लेकर सवाल किए थे।

सुषमा ने कहा कि सेना की तैयारी हमेशा होती है क्योंकि सेना युद्ध लड़ने के लिए होती है। लेकिन युद्ध से समस्याओं का हल नहीं हो सकता। इसलिए इसे कूटनीतिक रूप से हल किया जाना चाहिए। उन्होंने उम्मीद जतायी कि मुद्दे का हल द्विपक्षीय बातचीत से हो सकता है।

सुषमा स्वराज ने कहा…

  •  नेहरू ने व्यक्तिगतरूप से सम्मान कमाया, मोदी ने पूरी दुनिया में नाम कमाया।
  •  विपक्ष के पड़ोसियों से हमारे रिश्ते खराब होने पर सुषमा स्वराज ने कहा, मित्र की परिभाषा क्या है। जब एक देश संकट पर पड़ा हो और वह मदद मांगे जो मित्र सबसे पहले पहुंचा वो मित्र देश कहलाएगा। भारत ने नेपाल, श्रीलंका की मदद की। नेपाल को भारत ने एक लाख मिलियन डॉलर की मदद दी जबकि वह चीन की तरफ ज्यादा मदद की उम्मीद कर रहा था। 17 साल तक भारत की कोई प्रधानमंत्री नेपाल नहीं गया। मोदी दो बार गए।
  • कांग्रेस का अधूरा काम हम कर रहे हैं। दो साल हिचकोलो से भरे थे।
  •  बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद पाकिस्तान के साथ चीजें बिगड़ी क्योंकि नवाज शरीफ ने उसे स्वतंत्रता सेनानी बताया था।
  • सुषमा स्वराज ने चीनी राजदूत से राहुल गांधी की मुलाकात पर निशाना साधा। इस पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने कहा कि चीन में भारत के राजदूत किसी से नहीं मिलते।
  • इजलायल हमारे साथ, हम फिलिस्तीन के खिलाफ नहीं
  • आतंकवाद पर रूस और अमेरिका हमारे साथ।
  •  अरब देशों से भारत के अच्छे संबंध। पीएम मोदी के कहने पर साउदी अरब दो घंटे गोलाबारी रोकता था तो यमन से भारतीयों को निकाला गया। भारत ने यमन से 48 देशों के नागरिकों को निकाला।
  •  विपक्ष के सवाल का जवाब देते हुए सुषमा ने कहा, युद्ध किसी समस्या का हल नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *