नीतीश ने बिहार में भाजपा का दामन थामा

share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

– नीतीश मुख्यमंत्री, सुशील मोदी उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली

पटना 28 जुलाई 2017
बिहार मंे उलट फेर हो गया है… राजद और जदयू गठबंधन का बुधवार का अंत हो गया था। गुरूवार सुबह राजभवन में राज्यपाल केदार नाथ त्रिपाठी ने भाजपा और जदयू गठबंधन की सरकार को शपथ दिलाई। नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री और भाजपा के सुशील मोदी ने उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली। नीतीश की पार्टी में बगावती सुर भी सुनाई देंगे। चार साल बाद फिर नीतीश ने भाजपा के समर्थन से सरकार बनाई है।

मोदी शरण गच्छामि चार साल पहले साम्प्रदायिकता के नाम पर नीतीश ने भाजपा को बाॅय-बाॅय किया है। भाजपा प्रवक्ता प्रेम शंकर शुक्ला का कहना है भ्रष्टाचार मुक्त शासन देना नीतीश का स्वभाव है, लेकिन लालू यादव के साथ वह सुशासन की दिशा में काम नहीं कर पा रहे थे। लालू परिवार का दबाव उन पर था, जिसे उन्होंने छोड़कर सुशासन देने के लिए एनडीए को सहयोगी बनना स्वीकार है। यह भारतीय राजनीति का निर्णायक दौर है। भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में नीतीश का निर्णायक होगा।

भाजपा ने सुशासन के लिए नीतीश का समर्थन किया है। नीतीश कुमार छठवी बार मुख्यमंत्री बने हैं। हालांकि तेजस्वी ने राज्यपाल के फैसले के खिलाफ कोर्ट जाने की बात कही है। गौरतलब है भ्रष्टाचार मामले में लालू यादव और नीतीश के बीच तनाव बढ़ा था। लालू के तेजस्वी के इस्तीफे के इनकार के बाद इस्तीफे की राजनीति हुई है। हालांकि लालू कह रहे हैं सब कुछ पहले से सेट था।

धोख दिया नीतीश ने
नीतीश के भाजपा से हाथ मिलाने पर कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि नीतीश ने धोखा दिया है। नीतीश ने मुलाकात की थी, जो हुआ है यह चार महीने से चल रहा था। जो हुआ वह सब भाजपा के हिसाब से हुआ है पूरी स्क्रिप्ट पहले से लिखी हुई थी।

लालू का हमला
लालू ने नीतीश पर हमला बोला… तेजस्वी तो बहाना था भाजपा के साथ जाना था। नीतीश कुमार अवसरवादी नेता हैं। नीतीश ने बीजेपी से मिलकर सीबीआई में केस किया गया। हत्या के एक मामले में बचने के लिए नीतीश ने भाजपा का हाथ थामा है।

बिहार: जो हुआ उससे खुश नहीं है शरद

बहुत बेआबरू होकर तेरे कूचे से हम निकले

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *