रामनाथ कोविंद देश के 14 वें राष्ट्रपति बने

share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

 

  • New President of India - Ram Nath Kovind
    New President of India - Ram Nath Kovind
  • Ram Nath Kovind - 14th President of India
    Ram Nath Kovind - 14th President of India
  • Ram Nath Kovind with family
    Ram Nath Kovind with family
  • Ram Nath Kovind
    Ram Nath Kovind
  • 13th President Pranb Mukherjee and 14th President Ram Nath Kovind
    13th President Pranb Mukherjee and 14th President Ram Nath Kovind

नई दिल्ली 20 जुलाई 2017 बीडीसी न्यूज
राष्ट्रपति चुनाव एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद के जीत लिया है और वह देश के 14वें राष्ट्रपति होंगे। उन्हें 66 फीसदी वोट मिले हैं। वहीं विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार को 34 फीसदी वोट मिले हैं। रामनाथ कोविंद की जीत पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उन्हें बधाई दी है।
राष्ट्रपति चुनाव में रामनाथ कोविंद की वोट वैल्यू 702044 और विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार को 367314 वोट वैल्यू हासिल हुए हैं।

11 राज्‍यों में किसको मिले कितने वोटर
बिहार रू कोविंद -22490, मीरा कुमार -18867
छत्तीसगढ़ः कोविंद- 6708, मीरा कुमार- 4515
झारखंडः कोविंद- 8976, मीरा- 4576
आंध्र प्रदेश रू रामनाथ कोविंद – 27189, मीरा कुमार – 0
अरुणाचल प्रदेश रू कोविंद – 448, मीरा कुमार -24
असम रू कोविंद – 10556, मीरा कुमार – 4060
गोवाः कोविंद- 500, मीरा- 220
गुजरातः कोविंद- 19404, मीरा- 7203
हरियाणाः कोविंद- 8176, मीरा- 1792
हिमाचल प्रदेशः कोविंद- 1530, मीरा- 1887
जम्मू एवं कश्मीरः कोविंद- 4032, मीरा- 2160

 

जिम्मेदारी का अहसास
– मेरा चयन बड़ी जिम्मेदारी का अहसास कराने वाला है। राष्ट्रपति चुनाव जीतना मेरा लक्ष्य नहीं था, मैं देश की सेवा में लगातार लगा रहूंगा। मेरे लिए यह व्यक्तिगत रूप से भावुक करने का क्षण है। आज हो रही दिल्ली की बारिश मुझे सालों पुराने उस घर की याद दिला रहा है जब छत से पानी आता था और अपने भाई बहनों के साथ बारिश थमने का इंतजार करते थे। आज देश मंे कितने लोग हैं जो बारिश में भींग रहें किसान हैं, मजदूर हैं मैं उनका ही प्रतिनिधि बन कर राष्ट्रभवन में जा रहा हूं। मेरा चयन भारत की लोकतंत्र की परंपरा का चयन है। मैं सभी सुखी रहे की भावना से दायित्व का निर्वहन करूंगा।

रामनाथ कोविंद, चुने गए राष्ट्रपति

विचारधारा की लड़ाई
– मेरा जिसने साथ दिया उन सभी का मैं आभार व्यक्त करती हंूं। मेरा चुनाव में उतरना एक विचारधारा की लड़ाई को बनाए रखना था, यह लड़ाई आज खत्म नहीं हुई है। यह आगे भी जारी रहेगी।
मीरा कुमार, यूपी की उम्मीदवार

जाने रामनाथ कोविंद को

    • रामनाथ कोविंद का जन्म एक अक्टूबर 1945 को कानपुर देहात के पाराउख गांव में हुआ था। कोविंद के पिता पिता मैकूलाल वैद्य भी थे और गांव में किराने और कपड़े की दुकान भी चलाते थे। कोविंद के परिवार में बाकी लोग सामान्य जीवन ही बिताते हैं।

 

    •  रामनाथ कोविंद की शुरुआती शिक्षा-दीक्षा स्थानीय स्कूलों में हुई। उन्होंने कानपुर विश्वविद्यालय से स्नातक और विधि स्नातक की पढ़ाई की। कानून की पढ़ाई करने के बाद वो भारतीय प्रशासनिक सेवा की परीक्षा की तैयारी के लिए दिल्ली आ गए।

 

    •  लोक सेवा आयोग में चयन न होने के बाद वो दिल्ली में ही वकालत करने लगे। कोविंद हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के वकील बने गए। 1977 में केंद्र में जब मोरारजी देसाई के नेतृत्व में जनता पार्टी की सरकार बनी तो कोविंद प्रधानमंत्री के निजी सचिव बने। जनता सरकार अपना कार्यकाल पूरा करने से पहले ही गरि गई।

 

    • कोविंद 1980 से 1983 तक कोविंद केंद्र सरकार के सुप्रीम कोर्ट में स्टैंडिंग काउंसिल रहे। दिल्ली प्रवास के दौरान ही कोविंद का राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से जुड़ाव हुआ। 1991 में वो बीजेपी की राजनीति में सक्रिय रूप से जुड़े और पार्टी के टिकट पर घाटमपुर लोक सभा सीट से चुनाव लड़ा लेकिन हार गए।

 

    • कोविंद को बीजेपी अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ में अहम जिम्मेदारियां मिलती रहीं। वो बीजेपी राष्ट्रीय अनुसूचित जाति-जनजाति मोर्चा के अध्यक्ष, महामंत्री और प्रवक्ता पद पर रहे। 1996 में बीजेपी ने उन्हें पहली बार राज्य सभा भेजा। वो लगातार दो बार पार्टी के राज्य सभा सांसद रहे।

 

    • साल 2006 में उनका राज्य सभा का कार्यकाल पूरा हुआ उसके बाद वो पार्टी में विभिन्न पदों पर रहे। 2014 में जब केंद्र में बीजेपी गठबंधन सरकार आई तो अगले ही साल 2015 में उन्हें बिहार का राज्यपाल बना दिया गया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *