लोकसभा चुनाव में सिंधियों को टिकट दें सियासी दल

  • अभा सिंधी महासभा ने लिखा कांग्रेस, भाजपा सहित सभी पार्टियों को पत्र
  • कहा देश के आर्थिक उत्थान में है सिंधी समाज का महत्वपूर्ण योगदान

भोपाल। 24 मार्च 2019

सिंधियों की राष्ट्रीय  सामाजिक संस्था अखिल भारतीय सिंधी महासभा ने आगामी लोकसभा चुनाव में देश से सिंधी भाषी नेताओं को पर्याप्त संख्या में उम्मीदवार बनाने की मांग की है। इसके लिए भाजपा व कांग्रेस के अलावा सभी राजनीतिक दलों के राष्ट्रीय अध्यक्षों को बाकायदा पत्र भी लिखा गया है।
अभा सिंधी महासभा के राष्ट्रीय संरक्षक नंदलाल जोतवानी (नई दिल्ली) राष्ट्रीय अध्यक्ष हंसराज टहलानी (बनारस) राष्ट्रीय महासचिव राजकुमार माखीजा (कटनी) राष्ट्रीय कार्यालय सचिव नानक बजाज (जबलपुर) एवं राष्ट्रीय प्रवक्ता एस.के.जसवानी (भोपाल) ने कहा है कि आजादी के बाद से लेकर बीते 70 सालों में सिंधी समाज का देश के आर्थिक व सामाजिक उत्थान में महत्वपूर्ण योगदान रहा है। देश के कुल राजस्व भंडार में अकेले सिंधी भाषी कारोबारियों का 35 प्रतिशत योगदान है। पर चूंकि सिंधी समाज अल्पसंख्यक है इस कारण केवल अपने दम पर कोई भी लोकसभा सीट जीतने की स्थिति में नहीं है इस कारण सभी राजनीतिक दलों का दायित्व बनता है कि वह सिंधी भाषी नेताओं को पर्याप्त मात्रा में उम्मीदवार बनाए ताकि समाज की आवाज लोकसभा तक पहुंच सके।
जहां एक लाख से अधिक वहां दें टिकट
अखिल भारतीय सिंधी महासभा ने सभी राजनीतिक दलों से अपील की है कि जहां भी एक लाख से अधिक सिंधी मतदाता हैं, वहां से सिंधी भाषी नेताओं को टिकट प्रदान किया जाना चाहिए। महाराष्ट्र के उल्हासनगर, मध्यप्रदेश के इंदौर व भोपाल, राजस्थान के जयपुर व अजमेर, उत्तरप्रदेश के लखनऊ, गुजरात के अहमदाबाद, गांधीधाम कच्छ कुछ ऐसे शहर हैं जहां सिंधी भाषी मतदाताओं की संख्या एक लाख से लेकर चार लाख तक है। इसलिए वहां से सभी राजनीतिक दलों को चाहिए कि वह सिंधी भाषी नेताओं को लोकसभा का उम्मीदवार बनाए।

  • रवि नाथानी, बीडीसी न्यूज भोपाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *