मांगों को लेकर तंबू लगाने का सीजन

share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

– सरकार पर दबाव बनाने के लिए सहकारिता, स्वास्थ्य एवं वाणिज्यिक कर्मचारी मोर्चे पर
भोपाल। 22 फरवरी 2018
चुनावी साल में सरकार पर दबाव बनाने के लिए कर्मचारी मोर्चा खोले हुए हैं। सहकारिता, संविदा स्वास्थ्य और वाणिज्यिक कर अधिकारी ‘मांग हमारी पूरी हो’ का नारा बुलंद कर रहे हैं। कर्मचारियों के आंदोलनों में तेजी अभी ओर आएगी। सब धमकी दे रहे हैं- मांगें नहीं मानी गई तो भाजपा को खामियाजा भुगतान पड़ेगा।

भावांतर पर असर
नियमितीकरण और राज्य कर्मचारी दर्जा की मांग को लेकर प्रदेश के सहकारी कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं। कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से सरकार की किसानों के चलाई जा रही भावांतर योजना पर भी असर पड़ा है।एक दशक से सहकारी कर्मचारी सरकार से नियमितीकरण की मांग कर रहे हैं…. मांग पूरी न होने से नाराज कर्मचारी गुरूवार से बेमियादी हड़ताल पर चले गए हैं। राजधानी के नीलम पार्क में अपनीे पांच सूत्रीय मांगों को कर्मचारियों ने नारेबाजी की। आंदोलनकारियों ने सरकार को अल्टीमेटम दिया है कि अगर समय रहते उनकी मांग नहीं मानती जाती है तो आने वाले समय में वे सड़क पर उतरकर आंदोलन का तेज करेंगे।

खजाने को झटका

वेतन विसंगति दूर करने की मांग को लेकर वाणिज्यिक कर अधिकारियों का आंदोलन चौथे दिन भी जारी रहा। आंदोलनकारियों ने मानव श्रंखला बनाई और रैली निकाली। मांग पूरी न होने पर आंदोलन को तेज करने की धमकी सहायक वाणिज्यिक कर अधिकारी संघ ने दी है। सहायक वाणिज्यिक कर अधिकारी, वाणिज्यिक कर निरीक्षक और कराधान सहायक संवर्ग के अधिकारी वेतन विसंगति की मांग को लेकर राजधानी में आंदोलन कर रहे हैं। गुरूवार को आंदोलन के चौथे दिन वाणिज्यिक कर अधिकारियों ने वाणिज्यिक कर भवन परिसर से रैली निकाली, जो विभिन्न मार्गों से होती हुई आंदोलन स्थल पर खत्म हुई। वाणिज्यिक कर निरीक्षण संघ की अध्यक्ष अंजलि मिश्रा ने जल्द मांग पूरी न होने पर आंदोलन को तेज करने की चेतावनी दी है।
                                                                     स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित

नियमितीकरण और बहाली की मांग को लेकर संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों की हड़ताल चौथे दिन भी जारी रही…. कर्मचारियों ने स्वास्थ्य मंत्री रूस्तम सिंह सहित अन्य मंत्रियों को पत्र लिखकर मांगें पूरी करने की गुहार लगाई है। कर्मचारियों ने कहा है कि अब वह एक टाइम खाना खाकर विरोध दर्ज कराएंगे। पिछले दो दशक से नियमितीकरण और बहाली की मांग कर रहे संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी अब आंदोलन कर रहे हैं। …. गुरूवार को राजधानी के जयप्रकाश चिकित्सालय में कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ चौथे दिन भी अपना आंदोलन किया। कर्मचारियों ने स्वास्थ्य मंत्री रूस्तम सिंह, मंत्री जयंत मलैया और सांसद आलोक संजर को पत्र लिखाकर मांगें पूरी करने की गुहार लगाई है… कर्मचारियों ने मीडिया से चर्चा करते हुए बताया कि अब वह एक टाइम भोजन कर विरोध दर्ज कराएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *