सील लगाने वाली आंटी पर नहीं हो कार्रवाई

share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

भोपाल 10 aug 2017

केंद्रीय जेल में रक्षाबंधन के दिन कैदियों से मुलाकात करने आए बच्चों के चेहरे पर सील लगाने के मामले में एक नया मोड़ आ गया है।… गुरुवार को परिजनों के साथ दोबारा जेल पहुंचे बच्चों ने जेल प्रबंधन से महिला प्रहरी को सस्पेंड नहीं करने का आग्रह किया है।
जेल प्रशासन ने बुधवार को इस मामले में दोषी पाए जाने के बाद महिला प्रप्रहरी रोशनी राजपूत को सस्पेंड कर दिया था। गुरुवार को पीड़ित परिवार को पड़ोसियों से पता लगा कि बच्चों के चेहरे पर सील लगाने के मामले में डीजी जेल संजय चैधरी ने एक महिला प्रप्रहरी रोशनी राजपूत को सस्पेंड कर दिया है। खबर से दुखी परिजन और बच्चे गुरुवार को सेंट्रल जेल पहुंचे और उन्होंने अपनी तरफ जेल प्रप्रबंधन को एक हलफनामा दिया है, जिसमें उन्होंने महिला प्रप्रहरी रोशनी को सस्पेंड नहीं करने का आग्रह किया है। वहीं, बच्चों के परिजनों ने यह भी कहा है कि उन्हें चेहरे पर सील लगाने को लेकर कोई आपत्ति नहीं है। इसीलिए महिला प्रहरी को सस्पेंड न किया जाए। गौरतलब है कि रक्षाबंधन के दिन भोपाल जेल में दो बच्चे परिजनों के साथ जेल में बंद अपने पिता से मिलने पहुंचे थे। इस दौरान जेलकर्मियों द्वारा पहचान के लिए कैदियों के परिजनों के हाथ पर मुहर लगाई जा रही थी। लेकिन जैसे ही बच्चों की बारी आई, एक महिला प्रप्रहरी ने उनके हाथ के बजाए चेहरे पर सील लगा दी थी। तीज-त्योहार या अन्य दिनों में भी जेल में बंद कैदियों से मिलने जाने वाले परिजनों या परिचितों के हाथ पर पहचान के लिए जेल कर्मियों द्वारा मोहर लगा दी जाती है। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि कैदी भीड़ का फायदा उठाकर भाग न निकले। यह केवल सुरक्षा की दृदृष्टि से किया जाता है। वहीं इस मामले में राज्य मानवाधिकार आयोग ने जेल डीजी से सात दिवस में जांच प्रतिवेदन तलब भी किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *