झूम के बरस रहे मानसूनी बदरा

भोपाल। 23 जुलाई 2018
अति कम दबाव का क्षेत्र उत्तरी पूर्वी मध्यप्रदेश एवं उसके आसपास बनने से सूबे में एक बार फिर मानसून की बारिश का दौर शुरू हो गया है, जो तीन जारी रहेगा। जुलाई माह में होने वाली सामान्य से अधिक बारिश हो चुकी है। बीते 24 घंटे में प्रदेश के उन जिलों में बदरा मेहरबान हुए हैं, जहां बारिश का इंतजार था।

राजधानी में सोमवार का मौसम खुशनुमा और संजीदगी भरा रहा। सुबह से ही बारिश का सिलसिला जारी था जो कि दरे शाम तक चलता रहा। रूक-रूककर हो रही बारिश के चलते लोगों को सोमवार का दिन आनंद के साथ बिताया। मौसम विभाग ने राजधानी में सुबह से शाम तक करीब 24.2 मिलीमीटर बारिश दर्ज की।

सोमवार को राजधानी का अधिकतम तापमान जहां 24.8 डिग्री सेल्सियस रहा। जो कि सामान्य से पांच डिग्री कम है। इधर मौसम विभाग ने भोपाल सहित प्रदेशभर के 23 जिलों में वर्षा का हाईअलर्ट जारी कर दिया है। भोपाल, सीहोर, ग्वालियर, शिवपुरी, श्योपुरकलां, शहडोल, उमरिया, नीमच, मंदसार, आगर, शाजापुर, टीकमगढ़, पन्ना, सीधी, सिंगरौली, कटनी, सिवनी, छिंदवाड़ा, बालाघाटा, मंडला, जबलपुर, नरसिंहपुर एवं होशंगाबाद जिला शामिल है। इन जिलों में भारी वर्षा होने की संभावना है। मौसम विभाग का मानना है कि आने वाले तीन दिनों से बारिश की गतिविधियों में वृद्धि होगी।

क्यो बरस रहे बदरा
मौसम वैज्ञानिक गुरूदत्त मिश्रा ने बताया कि मध्यप्रदेश में मौसम को प्रभावित करने वाले में एक अति कम दबाव का क्षेत्र उत्तरी पूर्वी मध्यप्रदेश एवं उसके आसपास के क्षेत्र में बना हुआ है। इसके साथ ही हवा के ऊपरी हिस्से में 7.6 किलोमीटर तक की ऊंचाई तक चक्रवाती हवा का घेरा बना हुआ है। उन्होंने बताया कि द्रोणिका में बीकानेर, जयपुर, ग्वालियर, सीधी से अति कम दबाव का क्षेत्र ओड़िशा से बंगाल की खाड़ी तक बना हुआ है। जो मध्यप्रदेश में भारी वर्षा कराने का कारण बन सकते है।

  • मौसम संवाददाता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *